भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दान / मुंशी रहमान खान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भाग दान का है उन्‍हें करैं धर्म उपकार।
क्षमा दया सब शील उर रहैं ईश आधार।।
रहैं ईश आधार सार ग्रंथन का मानैं।
काम क्रोध मोहादि तज आत्‍म सरिस निज जानैं।
कहैं रहमान कर्म करैं खोटे चालैं धर्म मग त्‍याग।।
नहीं मिलै इन कर दियो तुम्‍हें स्‍वर्ग में भाग।।