भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दारिद्र को जारन को नहीं आयो / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अर्जुन दग्ध कियो वन खाण्डव,
                जाय यो काज तो तुच्छ सरायो ।
केसरी पुत्र कछु न करी अहो !
                स्वर्ण की लंक को जाय जरायो ।
त्रिभुवन नाथ मदन को जारि के,
                  लोक आनन्द को दूर दुरायो ।
सब जन के मन में ताप करे,
           रे ! दारिद्र को जारन को नहीं आयो ।