भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दार ,बरीं, जौ, दरिया लै गए / महेश कटारे सुगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दार, बरीं, जौ, दरिया लै गए ।
भड़या गुर की परिया लै गए ।

पैसा-धेला कितऊँ नईं मिलौ,
टाठी, लोटा, थरिया लै गए ।

गानो, गुरिया हात नईं लगौ,
तवा करैया, झरिया लै गए ।

चून तनक सौ हतौ छोड़ गए,
पापर भरी टिपरिया लै गए ।

ठण्ड हती सो गद्दा, पल्ली,
साड़ी, घंघरा, फरिया लै गए ।

काल टूट गई ती बउआ की,
टूटी सुगम पुंगरिया लै गए ।