भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिन ले के जाऊँ साथ उसे शाम कर के आऊँ / अंजुम सलीमी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन ले के जाऊँ साथ उसे शाम कर के आऊँ
बे-कार कर सफ़र में कोई काम कर के आऊँ

बे-मोल कर गईं मुझे घर की ज़रूरतें
अब अपने आप को कहाँ नीलाम कर के आऊँ

मैं अपने शोर ओ शर से किसी रोज़ भाग कर
इक और जिस्म में कहीं आराम कर के आऊँ

कुछ रोज़ मेरे नाम का हिस्सा रहा है वो
अच्छा नहीं के अब उसे बद-नाम कर के आऊँ

'अंजुम' मैं बद-दुआ भी नहीं दे सका उसे
जी चाहता तो था वहाँ कोहराम कर के आऊँ