भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिलरुबा तुंहिंजो जॾहिं दीदार थियो / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिलरुबा तुंहिंजो जॾहिं दीदार थियो
ईअं लॻो ॼणु को वॾो इसरारु थियो
बादलनि बरसात आंदी वाह वाह
दिलि जो वीरानो फिरी गुजल़ार थियो
आॻ उदासीअ जी हुई चोधर फ़िज़ा
हाणे रंगत सां भरियो संसार थियो
दिलि त चाहियो, हालु तो सां ओरजे
पर ज़बान सां, कीन को इज़िहार थियो
हुसन तुंहिंजे जो सदा शेदाई मां
पर तुंहिंजो इक़िरार या इंकारु थियो
भाॻु मुंहिंजो ॼण त अॼु जाॻियो अची
हाणे ‘निमाणी’ जो रहणु दुशवार थियो
दिलरुबा तुंहिंजो जॾहिं दीदार थियो
ईअं लॻो ॼण को वॾो इसरारु थियो।