भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिल्ली - दो / अर्पण कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं चाहता हूँ
दिल्ली में
कुछ दिनों के लिए
‘ब्लैक-आउट’ हो जाए

मैं देखना चाहता हूँ
जगमगाते उजालों के बावजूद
अपराध-राजधानी बना
यह शहर
सचमुच के अँधेरे में
क्या गुल खिलाता है !

रोशनी में जो दिखता है
वह हमें अक्सरहाँ
चकाचौंध ही करता है
............
मैं अँधेरे में
भारत की राजधानी का
फक्क पड़ता और
सफेद होता चेहरा
देखना चाहता हूँ ।