भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीठ ना मिलाओ / कीर्ति चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूर्य है, दीठ न मिलाओ
नहीं
आँख भर आएगी ।

पुष्प यह, डाल मत बिलगाओ--
गंध झर जाएगी ।
उस की सुवास से प्राण अभिराम करो ।

चन्र वह, हाथ मत फैलाओ--
आस मर जाएगी ।
छिटकी जुन्हाई में छाया ललाम करो ।