भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीठ / रचना शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पल्लै राखी बांध्योड़ी
बा दीठ उण दिन री
नैणां रा च्यार आखरां में कैयोड़ी
रूंवां रा हजार कानां सूं सुण्योड़ी
जद खोली आ सौरम
बा बणगी बंधेज चूनड़ रो
अर छाबड़ियै पीळै रो
पल्लै राखी ही जकी दीठ।