भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दीन-धरम बस यही है अपना साथ इसी के जीना है / देवमणि पांडेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दीन-धरम बस यही है अपना साथ इसी के जीना है।
प्यार छुपा है जिस दिल में वो काशी और मदीना है।

मोल-भाव की इस नगरी में सबके अपने-अपने दाम
मगर है क़ीमत जिसकी ज़्यादा समझो वही नगीना है।

गुज़रा है यह साल भी जैसे कोई तपता रेगिस्तान
साथ सफ़र में रहने वाला अपना ख़ून-पसीना है।

नफ़रत का इक चढ़ता दरिया प्यार का साहिल कोसों दूर
वक़्त के हाथों में पतवारें, ख़स्ताहाल सफ़ीना है।

गँगा, यमुना और गोमती सबके चेहरे स्याह हुए
ज़हर घुला है दरियाओं में फिर भी हमको पीना है।