भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुनिया मिली तो क्या है ये मेरी नहीं थी चाह / बेगम रज़िया हलीम जंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दुनिया मिली तो क्या है ये मेरी नहीं थी चाह
सब कुछ मुझे मिलेगा जो होगी तेरी निगाह

तेरी निगाह-ए-नाज़ से मसहूर काएनात
तेरी निगाह-ए-नाज़ का जादू है बे-पनाह

तेरी तो काएनात है मैं भी उसी में हूँ
कम-तर मैं एक ज़र्रे से और तू है बादशाह

अपना ले मुझ को और ज़रा क़ुर्ब बख़्श दे
कब से भटक रही हूँ चला मुझ को अपनी राह