भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दुश्मन-ए-जाँ को हम अपनी जाँ बना बैठे / संतोषानन्द

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दुश्मने-ए-जाँ को हम अपनी जाँ बना बैठे,
ओ चुपके-चुपके
दिल बना बैठे, तुम्हें अपना ख़ुदा बना बैठे,
ओ चुपके-चुपके

प्यार पर किसका ज़ोर चलता है,
हर क़दम पर ये दिल मचलता है
दिल की राहों में हम आशियाँ बना बैठे, ओ चुपके-चुपके

अपनी आवाज़ है पहाड़ों में
एक गर्मी है अब तो जाड़ों में
आँखों-आँखों में हम दास्ताँ सुना बैठे, ओ चुपके-चुपके


फ़िल्म : नागमणि(1991)