भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देख निरत / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओळ साम्हूं
लाज ढकूं
दाझै पांखां
तकूं आभौ
आभौ ताकै
सूना खोड़!

तज मेघाळो
आव मुरधर आभै
देख निरत
धोरां रा
मन मोरिया
कीकर नाचै।