भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देवी के दिवाले बड़ी भीर / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

देवी के दिवालें बड़ी भीर,
चलो तो दर्शन करबे।
कौना लगा दई मैया बेला चमेली,
कौना ने लाल अनार। चलो...
देवी लगा दई मैया बेला चमेली,
लंगुरे ने लाल अनार। चलो...
कांहे के गोडूं भैया बेला चमेली,
काहे के लाल अनार। चलो...
कुदरन गोडूं मैया बेला चमेली,
खुरपन लाल अनार। चलो तो
काहे के सींचूं मैया बेला चमेली,
काहे से लाल अनार। चलो...
दुधुअन सीचूं मैया बेला चमेली,
अमृत लाल अनार। चलो तो दर्शन करबे।
देवी के दिवाले बड़ी भीर, चलो तो दर्शन करबे।