भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देवी गीत 1 / रामरक्षा मिश्र विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रे मनवा माई के जय बोल.
भरमत रहबऽ असहीं हरदम, माया के जय गोल.
 
नीमन पहिरन चीकन भोजन मनलऽ तन अनमोल
बाकिर एक दिन उड़ि जाई सुगना पिंजरा के खोल.
 
जय माँ दुर्गे जय माँ काली जग में सुंदर बोल
ईहे राह दिखा के भव के बंधन दीही खोल.
 
जीव जगत में दरसन कइ लऽ माई के अनमोल
विमल रङा लऽ भगति चुनरिया छोड़ऽ टालमटोल.