भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देवी गीत 4 / रामरक्षा मिश्र विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ए देवी मइया बढ़ावऽ चरनवा.
 
ताकींले सगरी डगरिया चिहुँकि के
देखीं ना तोहके त रोईं डहकि के
भरि आवे अँखियन में भादो सवनवा.
 
अइबू त सधिया ना फूला समाई
खुशी के नया जोति अँखियन में आई
बहि जाई जिनिगी में सुख के पवनवा.
 
तोहरे चरनिया के आसा में सर बा
नेहिया के अमिरित पियासल अधर बा
गमकइहऽ एक दिन विमल के अङनवा.