भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देश ठगा दिखता है / रविशंकर पाण्डेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देश ठगा दिखता है

हर आनेवाला
आते ही
अपना बहुत सगा दिखता है,
हर जानेवाला
जाते ही
धोखा और दगा दिखता है!

सुबह शाम
आकर देता है
आश्वासन की मीठी गोली
इनकी इन
टेढ़ी चालों को
समझ न पाई
जनता भोलीय

सच पूछो तो
मुझे शख्स वह
एक सियार रंगा दिखता है!

रंग बदलता
रूप बदलता
आए दिन वह रोल बदलता,
नारे बदल-बदल कर उनके
बोल बदलता ढोल बदलताय

उसके मुंह पर
एक मुखौटा
नकली मुझे लगा दिखता है!

आयाराम न बतलाए तो
कोई गयाराम से पूछे,
सब के सब क्यों
देते आए
आश्वासन छूछे के छूछेय

इनकी करतूतों से मुझको
सारा देश ठगा दिखता है!