भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

देहदान / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यदि
मर कर
दफन होना है तो
मरने से डरता हूँ
क्योंकि कब्र में
दम घुटता है

दम घुटता है
कब्र में
ढेर सारी मिट्टी के नीचे
मैं हिल-डुल भी नहीं पाऊँगा

जलाओगे तो
बहुत तकलीफ होगी
जरा से जल जाने पर
माँ कसम
जान निकल जाती है
फिर ढेर सारी
लकड़ियों के साथ जलने में
मेरी चीख कौन सुनेगा

चाहो तो
खुला छोड़ देना
मेरे मरने पर
वहाँ भी नोंचने भय है

इसलिए
मेरे मरने तक
मेरी चौकसी
जरूर करना
बाद मरने
मेरी देह को
दान कर देना...