भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोस्ती में अदावत का डर दोस्तो / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
दोस्ती में अदावत का डर दोस्तो
रफ़्ता-रफ़्ता करेगा असर दोस्तो

वो धुआँ है तो फिर उड़ के खो जाएगा
आदमी है तो आएगा घर दोस्तो

मेरे अंदर है बेचैन-सी हर गली
मैं हूँ कर्फ़्यू का मारा शहर दोस्तो

भोर का वो सितारा विदा हो गया
मेरे हाथों में रख के सहर दोस्तो

बीच में एक अर्जुन पशेमान था
कुछ उधर भाई थे कुछ उधर दोस्तो

छेद ही छेद उसके सफ़ीने में थे
और पानी पे था उसका घर दोस्तो