भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोस्त बनाएँ / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कंधे पर लादे एक बोरी
ढँढ रहे जो चोरी-चोरी
रद्दी कागज, टूटी बोतल,
चलो, उन्हें हम दोस्त बनाएँ।

अधनंगे हैं, धूल भरे हैं,
और पेट में भख भरे हैं,
लेकिन जिनके मन हैं कोमल,
चलो, उन्हें हम दोस्त बनाएँ।

सबकी होगी एक कहानी,
सुनें उन्हीं की आज जुबानी,
दुख-सुख बाँटे उनके दो पल,
चलो, उन्हें हम दोस्त बनाएँ।

चेहरे इनके पीले-पीले,
इससे पहले, ये शर्मीले
हो जाएँ आँखों से ओझल
चलो, उन्हें हम दोस्त बनाएँ।