भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दोहा / भाग 3 / महावीर उत्तरांचली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अदभुत यह अहसास है, बुझे न बुझती प्यास
चकोर देखे चाँद को, मधुर मिलन की आस।21।

दीमक जैसे खा रही, लकड़ी के गोदाम
नैतिकताएँ खोखली, यूँ बिके सरे आम।22।

महानगर ने खा लिए, रिश्ते-नाते ख़ास
सबके दिल में नक़्श हैं, दर्द भरे अहसास।23।

रेखाओं को लाँघकर, बच्चे खेलें खेल
बटवारे को तोड़ती, छुक- छुक करती रेल।24।

बटवारा क्योंकर हुआ, इस पर करो विचार
हिन्दू-मुस्लिम एकता, कहाँ गई थी यार।25।

महँगाई की मार है, पेट-पेट है भूख
पूंजीपति के हाथ में, शोषण की बन्दूक।26।

भूली-बिसरी दास्ताँ, आ रही मुझे याद
आँसू बनकर बह चली, होंठों की फ़रियाद।27।

मन्थन, चिन्तन ही रहा, निरन्तर महायुद्ध
दुविधा में वह पार्थ थे, या सन्यासी बुद्ध।28।

जीवन के कुरुक्षेत्र में, जब-जब आया स्वार्थ
ले गीता को हाथ में, बन जा तू भी पार्थ।29।

बड़े-बड़े योद्धा यहाँ, वार गए जब चूक
'महावीर' कैसे चले, जंग लगी बंदूक।30।