भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

दोहा / भाग 4 / रामेश्वर शुक्ल ‘करुण’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पढ़त न एकन के तनय, कीन्हे यत्न अनेक।
रहत अभागे मूढ़ ह्वै, शुल्क बिना सुत एक।।31।।

करहिं कठिन श्रम नित्य इक, बाँधि पेट श्रम कार।
उपभोगहिं, इक चैन सों, पूँजीपति-बेकार।।32।।

धनि-धनि न्यायाधीश जी, धनि तव न्यायागार।
तीन हाथ भू हेतु हम, खोये तीन हजार।।33।।

यदि डर विधवा को मनहुँ, करत बिवाह न आन।
‘दाल मंडई’ देश की, ह्वै जैहैं बीरान।।34।।

शान्ति-सुकृति-सौरभ कहाँ, कहँ साँचो सुख चाव।
युवा-शक्ति कानन दह्यो, बेकारी-दुख-दाव।।35।।

कष्ट किसानन के गुनै, तुम सम को जग अन्य।
युवक-हृदय-सम्रात, श्री बीर जवाहर! धन्य।।36।।

दल्यो विरोधिन के दलन, चल्यो स्वचेती चाल।
हिल्यो न हित की राह तें, धनि मुस्तफा कमाल।।37।।

धर्मराज से सत्य प्रिय, अर्जुन से मतिमान।
जर-जमीन-जन-हेतु हा, जूझि भये म्रियमान।।38।।

सुरगण हू ह्वै मुग्ध जहँ, चाह्यो निज अवतार।
मच्यो आज वा भूमिं पै, चहुँदिशि हाहाकार।।39।।

भेदी भलो न भौन को, करि देख्यों निरधार।
घर के भेदिन सों भयो, भारत गारत-छार।।40।।