भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धन का घमंड प्यारे मन से तू दूर कर / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धन का घमंड प्यारे मन से तू दूर कर,
दउलत खजाना माल यहीं छोड़ जाना है।
थोड़ी-सी जिन्दगी में सीताराम ध्यान करो,
जहाँ से तू आया मूढ वोही घर जाना है।
हुज्जत लड़ाई कुछ करने को काम नहीं,
नाहक में सबसे तू बैर कर ठाना है।
द्विज महेन्द्र लाखन में एक बात कही जाय,
काहू को सताओ नहीं अंत मर जाना है।