भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

धन धन हो सूर्या गाय / मालवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

धन धन हो सूर्या गाय
सींगड़ली सौभाग भरी
तूने दियो है घड़ो भर दूद
बछवो आनन्द करे
धन-धन हो फलाणी बऊ तमारी कूख
कखड़ीली सौभाग भरी
तमने जाया है फलाणा राय सरखा पूत
तो मनड़ा री आस पूरी करी
राणी बैठी है तखत विछाय
बऊ-बेटी पास खड़ी
बऊ-बेटी को लपे लिलार
मोतीड़ा से मांग भरी