भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धरती आभौ बण जावै / राजेश कुमार व्यास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुगत करै
थारी औगत
आखती-पाखती री
सगळी ही अबखांया सूं
बेकळू मांय न्हावै मन
धरती आभौ बण जावै
अर
धोरा समन्दर।