भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धिग् प्राणी / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवकी दया जेहि जीय व्यापै नहीं,
भुखे आहार प्यासे न पानी।
साधुसों संग नहि शब्दसाँ रंग नहि,
बोलि जाने न मुख मधुर वानी॥
एक जगदीश को शीष अर्पे नहीं,
पाँच पच्चीस बहु बात ठानी।
रामको नाम निज धाम विश्राम नहि,
धरनि कह धरनि सो धिग्ग प्रानी॥5॥