भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

धीर धीर साथ म्हारा गाव / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धीर धीर साथ म्हारा गाव,
असी म्हारी हँसी न उड़ाओ जिजिबाई धीरधीर साथ म्हारा गाओ
पिऊ तो म्हारा परदेस जाइल छे, सासु बाई देगा मख गाळ
ओ जीजी बाई धीर धीर साथ म्हारा गाओ।
हउ छे खेडा की रीत काई जाणू,
नन्द बाई ख गावण की हौस, म्हारी जीजी बाई,
धीर धीर साथ म्हारा गाओ