भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धुआँधार / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सर्पाकार बहती
एक वेगवान नदी
पानी भरी संगमरमरी खाई में
धड़ाम से गिर पड़ी

नदी के गिरने से
चारों ओर शोर मचा
घर्षण हुआ
खाई का पानी
धुआँ-धुआँ धार हो उठा
मैं हठात् खड़ा देखता रहा
इस तरह नदी का गिरना

चंद ही कदमों के बाद
नदी का गिरना न गिरना
बराबर हो गया
वह फिर सरपट भागने लगी
जैसे उसे कुछ हुआ ही न हो!