भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धुआँ / बर्तोल ब्रेख्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ताल किनारे
पेड़ों के झुरमुट के नीचे
छोटा सा घर
छत से तिरता धुआँ
कितने सूने लगते

घर, पेड़ और ताल
उसके बिना ।

मूल जर्मन भाषा से अनुवाद : महेन