भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूप एक लड़की है / पंख बिखरे रेत पर / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूप
पार- जंगल के राजा की
  लड़की है
 
झरनों में मुँह धोकर
रोज़ सुबह आती है
परियों के साथ
नदी-तीर पर नहाती है
 
पेड़ों के साथ
कभी छुटकी है, बड़की है
 
हँसती है बार-बार
ख़ुशबू के टीले पर
उजली मुसकानों से
भर देती घर-बाहर
 
रात भर
अकेले में सीने धड़की है