भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूप के बारे में-2 / दिनेश डेका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: दिनेश डेका  » संग्रह: मेरे प्रेम और विद्रोह की कविताएँ
»  धूप के बारे में-2

पूस की शाम, मेघ चीरकर
मेरे पुकारने से ही आती है धूप
धूप मेरी परिचित है
धूप मेरी जन्म की दूत
धूप मेरी आत्मा का अनोखा स्पंदन।

मूल असमिया से अनुवाद : दिनकर कुमार