भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूप नदी में तैरें / पंख बिखरे रेत पर / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुशबू की लहरें
फिर उठ रहीं
आओ, हम धूप-नदी में तैरें
 
चंदन की घाटी में
दूर-दूर घूमें
नीले जलहंसों के साथ
आसमान चूमें
 
टापू तक सूरज की
छाँव बही
आओ, हम धूप-नदी में तैरें
 
इन्द्रधनुष की मेहराबें
पार चलें उनके
देखो, रितु गा रही
नाच रहे दिन सुन के
 
किरणों ने
रूप की कथाएँ कहीं
आओ, हम धूप-नदी में तैरें
 
बाँहों में सोनपंख
बादल को भर लें
पंखुरी गुलाबों की
होंठों पर धर लें
 
जी-भर सुख पीयें
जी भरे नहीं
आओ, हम धूप-नदी में तैरें