भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूप / दामोदर अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खिड़की ज्यों ही खुली कि आकर
अंदर झाँकी धूप!
आकर पसर गई सोफे पर
बाँकी-बाँकी धूप!
बैठ मजे़ से लगी पलटने
रंग-बिरंगे पन्ने,
पलट चुकी तो बोली, ‘आओ
चलो पकाएँ गन्ने!’
और पकाने लगी ईख को
फाँकी फाँकी धूप!

फिर वह रुककर एक मेड़ पर
उँगली पकड़ मटर की,
बातें करने लगी इस तरह
चने और अरहर की!
दाने-दाने पर हो जैसे
टाँकी टाँकी धूप!

बैठ गई क्यारी में ऐसे
बाँह पकड़ सरसों की,
बिछुड़ी हुई मिली हों जैसे
दो सखियाँ बरसों की!
घूम रही यों क्यारी क्यारी
डाँकी-डाँकी धूप!