भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

धूरि चढ़ै नभ पौन प्रसँग तें कीच भई जल संगति पाई / दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूरि चढ़ै नभ पौन प्रसँग तें कीच भई जल संगति पाई ।
फूल मिलैँ नृप पै पहुँचैं कृमि काठन सँग अनेक बिथाई ।
चँदन सँग कुठार सुगंध ह्वै नीच प्रसंग लहै करुआई ।
दासजू देखौ सही सब ठौरन संगति को गुन दोष न जाई ।


दास का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।