भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नए आलू आये बिकन बंगले में / मालवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

नए आलू आये बिकन बंगले में
सास नहीं घर में, ससुर नहीं घर में
मैं अलबेली, बलम लश्कर में

डालो गले बिन वैयां
हमार जिया ना माने

बेलम शौकीन मिले मेरी गुईयां