भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नग्नता और प्रेम / मोहिनी सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे लगता है क्रूरता का लिबास है प्रेम
या शायद क्रूरता की कोठरी का दिया है प्रेम
और मेरी आँखों को मिल गई है क्षमता
सब कुछ नग्न देखने की ।
मेरी साँसे ही बुझा देती हैं हर दिया अँधेरा नाच उठता है।
तभी तो मुझे दिखाई देता है एक जोड़ा प्रेम में लिप्त
लड़का लड़की को फूल सा बांहों में उठाये
दोनों खिलखिलाते
दुलराते एक दुसरे को
कि अचानक
लड़का छोड़ देता है लड़की को
लड़की बिखर जाती है कांच की तरह ।
छर छर बहता रक्त
तड़पती लड़की
और खिलखिलाहट बन गई है अट्टहास लड़के का।
अब सब नग्न है और क्रूर है।
हाँ मैं ऐसे ही स्वप्न देखती हूँ
जब सच को स्वप्न मान लेती हूँ।