भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नज़र आते हैं जो जैसे वो सब वैसे नहीं होते / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नज़र आते हैं जो जैसे वो सब वैसे नहीं होते ।
जो फल पीले नहीं होते वो सब कच्चे नहीं होते ।

जहाँ जैसी ज़रूरत हो वहाँ वैसे ही बन जाओ,
अगर ऐसे ही होते हम तो फिर ऐसे नहीं होते ।

भरे बाज़ार से अक्सर मैं ख़ाली हाथ आता हूँ,
कभी ख्वाहिश नहीं होती कभी पैसे नहीं होते ।

शरारत जिसके सीने पर हमेशा मूँग दलती है,
वो आँगन काटता है घर में जब बच्चे नहीं होते ।

न होते धूप के टुकड़े न मिलता छाँव को हिस्सा,
अगर पेड़ों पे इतने एकजुट पत्ते नहीं होते ।

तुम्हें कैसे बता पाते कहाँ जाता है वो रस्ता,
’नदीम’ उस राह से गर हम कभी गुज़रे नहीं होते ।