भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नदी उल्टी बहाने पर तुले हैं / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नदी उल्टी बहाने पर तुले हैं ।
वो सागर को सुखाने पर तुले हैं ।

ये मौसम जाने किस आज़र की शह पर,
मुझे पत्थर बनाने पर तुले हैं ।

मिरे साए भी अपना क़द बढ़ा कर,
मुझे नीचा दिखाने पर तुले हैं ।

मुझे अपना बनाने के लिए वो,
मिरी हस्ती मिटाने पर तुले हैं ।

जहाँ गहराई बिल्कुल भी नहीं है,
वहाँ सब डूब जाने पर तुले हैं ।