भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नदी करै जातरा / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नदी
डूंगरां ढळ
करै जातरा
कंत सागर सूं
भेंटा सारू
भेळै ले
फूल-पानड़ा
फूस-लाकड़ी
अंगड़-बंगड़
लंगा टेर
चुकांवती मोल
पंथवारी रो
लदै नावां
नावां माथै
माणस
माणस रो सिरजण!