भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नदी बहती है सदा / वत्सला पाण्डे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नदी बहती
भीतर भीतर
गुपचुप चुपचुप

आपाधापी के
शिशिर में
जमी है
उदासी की परत

नदी है कि
बहती रही
गरम सोते सी
अपने ही भीतर

देवदार भी
बर्फ की चादर
ओढे. खडा. रहा
उम्मीदों के सूरज की
चाह में

नदी अब भी
बह रही है
देवदार को
शायद
पता ही नहीं