भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नबोलाऊ कसैलाई यहाँ राति राति / भीम विराग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


नबोलाऊ कसैलाई यहाँ राति राति
होशमा हुँदैनन् कोही राति राति

गन्दैन एक्लो जूनलाई कसैले
तारा गन्ने चलन यहाँ राति राति

हुँदैन जसको बिपना नै आफ्नो
आउँदैन सपना पनि राति राति

उज्यालोमा बदनाम आँखाहरू हुन्छ
नहुने के रैछ यहाँ राति राति

दिनभरि खाएँ तिमीसँग कसम
लड्खडाउँदै आएँ सधैँ राति राति