भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नमान लाज यस्तरी / किरण खरेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

युवक -
नमान लाज यस्तरी,
कि झुम्छ जिन्दगी मेरो


युवती-
नआऊ सामू यस्तरी,
कि अड्छ ढुकढुकी मेरो

युवक -
त्यो घुम्टो म उचालूँ कि, मुहार त्यो नियालूँ कि
भूलेर आफूलाई नै, हजुर मै हराऊँ कि
न मान लाज यस्तरी, कि अड्छ ढुकढुकी मेरो
नआऊ सामु यस्तरी

युवती-
यो बैँसमा बतासिदै, नआऊ न आकासिदै
के थाह भोलि कल्पिई, रुनु छ कि निसासिँदै
नआऊ सामु यस्तरी, कि झुम्छ जिन्दगी मेरो
नमान लाज यस्तरी

युवक -
यता उता नशा छरौँ, मीठा मीठा कुरा गरौँ
कि हामी एक अर्काको, नगिच मै जिऔँ मरौँ
नमान लाज यस्तरी, कि अड्छ ढुकढुकी मेरो
नआऊ सामु यस्तरी

युवती-
जतन गरेको दिल मेरो, नटिप है यो फूल मेरो
म प्रेममा डराउँछु, हुने हो कि यो भूल मेरो
नआऊ सामू यस्तरी,

दुबै-
कि झुम्छ जिन्दगी मेरो
कि अड्छ ढुकढुकी मेरो,
कि झुम्छ जिन्दगी मेरो,
कि अड्छ ढुकढुकी मेरो
नआऊ सामू यस्तरी
नमान लाज यस्तरी