भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नया चाँद / हरिवंशराय बच्चन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उगा हुआ है नया चाँद

जैसे उग चुका है हज़ार बार।

आ-जा रही हैं कारें

साइकिलों की क़तारें;

पटरियों पर दोनों ओर

चले जा रहे हैं बूढ़े

ढोते ज़‍िदगी का भार

जवान, करते हुए प्‍यार

बच्‍चे, करते खिलवार।

उगा हुआ है नया चाँद

जैसे उग चुका है हज़ार बार।

मैं ही क्‍यों इसे देख

एकाएक

गया हूँ रुक

गया हूँ झुक!