भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नया वर्ष / त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नए वर्ष की नई सुबह ने
रंग बिखराए नए-नए ।
सब में नए-नए सूरज ने
स्वप्न जगाए नए-नए ।।

नई उमंगे, नई तरंगे
नई ताल, संगीत नया ।
सब में जगीं नई आशाएँ,
नई बहारें, गीत नय ।।

नई चाह है, नई राह है
नई सोच, हर बात नई।
नया जागरण, नई दिशाएँ,
नई लगन, सौगात नई ।।

सब में नई नेह धाराएँ
लेकर आया वर्ष नया ।
नया लगा हर एक नज़ारा,
सब में छाया हर्ष नया ।।