भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नया साल / राकेश भारतीय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बस आखिरी ही रात है
दीवार पर इस कैलेंडर की
पर आखिरी बार नहीं
रोया है कोई बेरोजगार
साल बदलने के साथ उम्र
बोझ बन जाने की संभावना पर
आखिरी बार नहीं कोई कमसिन
मुफलिसी में लगा रही है हिसाब
बेहतर होगा अकेले छीजते रहना
या किसी मालदार बूढ़े की लार
हाार हाार बार सहते चलना
और भी बहुत अप्रिय बातों का
सिलसिला टूटने की उम्मीद के
साल भर बाद टूटने के साथ
फिर वही मांर है सामने
नाच रहे हैं इन्सानी मुखौटों में
तमाम तरह के स्खलनकामी कीड़े
इन्सानियत की ढहती दीवारों में
नये साल में नये तरीके से
सेंध लगाने की उम्मीद में
पर टेरने में लगा है कवि
उगते हुए सूर्य के साथ सुबह
उगायेंगे हम उम्मीदों का नया साल