भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नवदश प्रकरण / श्लोक 1-8 / मृदुल कीर्ति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जनक उवाचः
तत्व ज्ञान की सांसी गुरु से, मिल गए मैं कृतज्ञ हूँ,
से वाण रूप विचार गए, मर्मज्ञ हूँ.-------१

मुझे द्वैत से या अद्वैत से धन, ऐर्थ से और काम से,
किंचित प्रयोजन भी नहीं, चितवृति शेष विराम से.-----२

मैं नित्य स्व महिमा प्रतिष्ठित,तीन कालों से परे,
कहाँ देश कालों की परिधि, प्रतिबिम्ब सीमा से करें.-----३

शुभ--अशुभ, चिंता--अचिंता, आत्मा या अनात्मा,
हूँ नित्य स्व महिमा प्रतिष्ठित, चित्त में परमात्मा.------४

अब स्वप्न जाग्रत और सुषुप्ति, तुरीय अथवा भय कहाँ,
हूँ नित्य स्वमहिमा प्रतिष्ठित, इनका न अनुभव वहाँ.----५

बाह्य अभ्यंतर कहाँ पर सूक्ष्म है, स्थूल है,
हूँ नित्य स्व महिमा प्रतिष्ठित, मुझको सब अनुकूल है.----६

कहाँ मृत्यु है, जीवन कहाँ, परलोक लौकिक ज्ञान है,
लय समाधि है कहाँ?मुझे विज्ञ आत्मिक ज्ञान है-----७

आत्मा में विश्रांति, पूर्ण मैं पा गया, अब पूर्ण हूँ.
धर्म, अर्थ और मोक्ष काम की, पूर्णता सम्पूर्ण हूँ ----८