भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नवमी गीत / भोजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

१.
हमरा शीतलऽ मइया बड़ दुलरी,
मइया बड़ दुलरी मइया डोला चढ़ि आवेली हमार नगरी।
जाउ हम जनतीं अइहें हमार नगरी (जाउ=यदि)
मइया डगर बहरतीं दहिनवें अंचरी।

२.
नीमिया के डाढ़ मइया गावेली हिंडोलवा कि झूलि-झूलि ना।
झूलतऽ झूलतऽ मइया के लगली पिअसिया कि चलि भइली ना
मलहोरिया दुआर, मइया चलि भइली ना
सुतल बाड़े कि जागल रे मलिया
बूँद एक आहि के पनिया पिआव कि बूँद एक
कइसे में पनिया पिआईं मैया
कि बालका तोहार मोरे गोद
लेहु नाहि मालिनी बालका, सुताव सोने के खटोलवा कि बूँद एक
मोहिके पनिआ पिआव।
एक हाथ लेहली मालिन झँझरे गड़ुअवा
दोसरे हाथ सिंहासन
जइसन मालिन हमरे जुड़वलू ओहिसन पतोहिया जुड़ास,
धिअवा जुड़ास धीया बाढ़ो ससुरे, पतोह बाढ़ो नइहर
मइया केकरा के दीले असीस।
धीया बाढ़ो ससुरा, पतोह बाढ़े नइहर

३.
मइया के दुआरे हरियर पीपर
लाल धजा फहराई ए माया
मोहिनी भवानी जगतारन माया
अंचरा पसार भीख मांगेली बहुआरो देई
हमके सेनुरा भीख देई ए माया, मोहिनी भवानी
पटुका पसार भीख मांगेले कवन राम
हमके पुतवा भीख देई ए माया, मोहिनी भवानी...

४.
कहाँ रहनी ए मइया कहाँ रहनी
मइया पकवल रोटिया सेराई गइले, रउरा चरन में,
उहें रहनी उहें असी कोस के पयेंतवा
चलतऽ बटिया बिलम लगले
कहाँ रहनी ए मइया...