भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नहीं बनेंगे / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चौराहों पर भीख
माँगने वाले बच्चे
नहीं बनेंगे।
घर वालों से रूठ
भागने वाले बच्चे
नहीं बनेंगे।

चलती बस में जेब
काटने वाले बच्चे
नहीं बनेंगे।
अपनी किस्मत को
बिगड़ने वाले बच्चे
नहीं बनेंगे।

कठपुतली की तरह
नाचने वाले बच्चे
नहीं बनेंगे।
गलत बात को कभी
मानने वाले बच्चे
नहीं बनेंगे।