भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नाता : दो / विरेन्द्र कुमार ढुंढाडा़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाता
दो हाथ री ताळी
बजायां बाजै
बरोबर
दोन्यां रै।

ताळ्यां रै
उतराध-दिखणाध होयां
ताळी नीं
बांसिया बाजै
फेर तो
नाता भाजै
अळगा आंतरा।

आव
आपां बजावां
दोनूं हाथां
इकसार ताळी
थूं म्हारी सुण
म्हैं थांरी सुणूं
चालसी नाता
उथळीजसी जुगां।