भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

नानी नानी पापड़ी ने हाथ में चट्टियो / मालवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

नानी नानी पापड़ी ने हाथ में चट्टियो
यूं दे भणे बाल ब्रहमचारी
भजो भैरवानन्द आनन्द कारी
फलाणा राम का रजपाल बाबा भेरू
फलाणी बऊ त भई बाप बाबा भेरू
फलाणा जमई छड़ीदार बाबा भेरूरा