भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नाम बिना तन जात बहोरे / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाम बिना तन जात बहोरे।
पावत पार नहीं सागर को कर्म कुलाहल भार भरोरे।
कुमत खटेर भोर माया की फिर-फिर गोटा खात फिरोरे।
शब्द जिहाज साज भौसागर सतगुरु केवट पार करोरे।
जूड़ीराम विचार पुकारे नाम बिना नहिं पार लगो रे।